Whether it is the right time or not, the right decision is needed for success.

Path to goal

One day an acquaintance came to visit a farmer’s house. He was not at home at that time.

His wife said: He has gone to the field. I send the child to call. Till then you wait.

Within no time the farmer reached his home from the field. Along with him came his pet dog.

The dog was gasping heavily. Seeing his condition, the person who came to meet asked the farmer… is your field far away?

The farmer said: No, it is near. But why are you asking like this?

The man said: I am surprised to see that both you and your dog came together…

But the look on your face is not just tiredness while the dog is gasping profusely.

The farmer said: Me and the dog have come home by the same path. My farm is also not far away. I’m not tired My dog is tired.

The reason for this is that I have come home after walking on the straight path, but the dog is compelled by its habit.

Seeing other dogs around, he used to run after them to drive them away and barked and came back to me.

Then as soon as he saw another dog, he started running after him.

According to his habit, this sequence of his continued throughout the way. That’s why he’s tired.

If seen, this is the situation of today’s man as well.

Reaching the goal of life is not difficult, but the dogs that meet in the way are making a person stray from the straight and easy path of his life.

Man is deviating from his goal and this deviation is making man tired.

This is the biggest obstacle in achieving this goal. Your energy is wasted by the dogs you meet on the way.

Let these dogs bark and keep moving straight in the direction of achieving the goal.. Then one day you will get the destination.

But if you fall in love with them, you will get tired. Now you have to think whether to walk straight like a farmer or like his dog.

Whether it is the right time or not, the right decision is needed for success.

Love is rare, hold it, anger is bad, compress it. Fear is terrible, face it, memories are very pleasant, cherish them.
Be happy always
What is received is sufficient.

लक्ष्य प्राप्ति की राह

एक किसान के घर एक दिन उसका कोई परिचित मिलने आया। उस समय वह घर पर नहीं था।

उसकी पत्नी ने कहा: वह खेत पर गए हैं। मैं बच्चे को बुलाने के लिए भेजती हूं। तब तक आप इंतजार करें।

कुछ ही देर में किसान खेत से अपने घर आ पहुंचा। उसके साथ-साथ उसका पालतू कुत्ता भी आया।

कुत्ता जोरों से हांफ रहा था। उसकी यह हालत देख, मिलने आए व्यक्ति ने किसान से पूछा… क्या तुम्हारा खेत बहुत दूर है ?

किसान ने कहा: नहीं, पास ही है। लेकिन आप ऐसा क्यों पूछ रहे हैं ?

उस व्यक्ति ने कहा: मुझे यह देखकर आश्चर्य हो रहा है कि तुम और तुम्हारा कुत्ता दोनों साथ-साथ आए…

लेकिन तुम्हारे चेहरे पर रंच मात्र थकान नहीं जबकि कुत्ता बुरी तरह से हांफ रहा है।

किसान ने कहा: मैं और कुत्ता एक ही रास्ते से घर आए हैं। मेरा खेत भी कोई खास दूर नहीं है। मैं थका नहीं हूं। मेरा कुत्ता थक गया है।

इसका कारण यह है कि मैं सीधे रास्ते से चलकर घर आया हूं, मगर कुत्ता अपनी आदत से मजबूर है।

वह आसपास दूसरे कुत्ते देखकर उनको भगाने के लिए उसके पीछे दौड़ता था और भौंकता हुआ वापस मेरे पास आ जाता था।

फिर जैसे ही उसे और कोई कुत्ता नजर आता, वह उसके पीछे दौड़ने लगता।

अपनी आदत के अनुसार उसका यह क्रम रास्ते भर जारी रहा। इसलिए वह थक गया है।

देखा जाए तो यही स्थिति आज के इंसान की भी है।

जीवन के लक्ष्य तक पहुंचना यूं तो कठिन नहीं है, लेकिन राह में मिलने वाले कुत्ते, व्यक्ति को उसके जीवन की सीधी और सरल राह से भटका रहे हैं।

इंसान अपने लक्ष्य से भटक रहा है और यह भटकाव ही इंसान को थका रहा है।

यह लक्ष्य प्राप्ति में सबसे बड़ी बाधा है। आपकी ऊर्जा को रास्ते में मिलने वाले कुत्ते बर्बाद करते है।

भौंकने दो इन कुत्तो को और लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में सीधे बढ़ते रहो.. फिर एक ना एक दिन मंजिल मिल ही जाएगी।

लेकिन इनके चक्कर में पड़ोगे तो थक ही जाओगे। अब ये आपको सोचना है कि किसान की तरह सीधी राह चलना है या उसके कुत्ते की तरह।

सफलता के लिए सही समय कि नहीं,सही निर्णय की जरूरत होती है।

प्रेम दुर्लभ है उसे पकड़ कर रखें, क्रोध बहुत खराब है, उसे दबाकर रखें। भय बहुत भयानक है, उसका सामना करें, स्मृतियाँ बहुत सुखद है उन्हें संजोकर रखें।
सदैव प्रसन्न रहिये।
जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s