Circumstances never become a problem

How to get compatibility even in adversity

For a long time, the work of a big building was going on near a house.  Every day there, small children of laborers used to play rail-rail game holding each other’s shirts.

Every day a child became an engine and other children became a box.

Engines and coaches were changed daily, but

A small child wearing only a ring used to become a guard daily, rotating the cloth in his hand.

one day i saw that

A person watching those children playing everyday asked curiously to call the child who became the guard nearby.

Children, you become a guard everyday.  You never aspire to be an engine, sometimes a box?

on this the child said

Babuji, I have no shirt to wear.  So how will the kids behind me hold me and who will stand behind me

That’s why I participate in the game every day as a guard

I saw water in his eyes while saying this

Today that child taught me a big lesson in life

Your life is never perfect.  There must be some deficiency in it

The child could sit crying angry with the parents.  But while not doing so, he found a solution to the situation.

how much we cry

Sometimes for your dark complexion, sometimes for small stature, sometimes a neighbor’s big car, sometimes a neighbour’s necklace, sometimes your low marks, sometimes English, sometimes personality, sometimes because of job and sometimes you kill in business.  We have to come out of it with low-scale

this is life it has to be lived like this

Seeing the high flight of the eagle, the bird never gets depressed

she enjoys her existence

But human beings get worried very quickly after seeing the high flight of humans.

avoid comparison and be happy

Circumstances never become a problem, the problem is created because we do not know how to fight with those situations.

विपरीत परिस्थिति में भी कैसे अनुकूलता प्राप्त की जा सकती है

एक घर के पास काफी दिन से  एक बड़ी इमारत का काम चल रहा था। वहां रोज मजदूरों के छोटे-छोटे बच्चे एक दूसरे की शर्ट पकडकर रेल-रेल का खेल खेलते थे।

रोज कोई बच्चा इंजिन बनता और बाकी बच्चे डिब्बे बनते थे

इंजिन और डिब्बे वाले बच्चे रोज बदल  जाते,पर

केवल चङ्ङी पहना एक छोटा बच्चा हाथ में रखा कपड़ा घुमाते हुए रोज गार्ड बनता था।

एक दिन मैंने देखा कि

उन बच्चों को खेलते हुए रोज़ देखने वाले एक व्यक्ति ने  कौतुहल से गार्ड बनने वाले बच्चे को पास बुलाकर पूछा

बच्चे, तुम रोज़ गार्ड बनते हो। तुम्हें कभी इंजिन, कभी डिब्बा बनने की इच्छा नहीं होती?

इस पर वो बच्चा बोला

बाबूजी, मेरे पास पहनने के लिए कोई शर्ट नहीं है। तो मेरे पीछे वाले बच्चे मुझे कैसे पकड़ेंगे और मेरे पीछे कौन खड़ा रहेगा

इसीलिए मैं रोज गार्ड बनकर ही खेल में हिस्सा लेता हूँ

ये बोलते समय मुझे उसकी आँखों में पानी दिखाई दिया

आज वो बच्चा मुझे जीवन का एक बड़ा पाठ पढ़ा गया

अपना जीवन कभी भी परिपूर्ण नहीं होता। उसमें कोई न कोई कमी जरुर रहेगी

वो बच्चा माँ-बाप से ग़ुस्सा होकर रोते हुए बैठ सकता था। परन्तु ऐसा न करते हुए उसने परिस्थितियों का समाधान ढूंढा।

हम कितना रोते हैं

कभी अपने साँवले रंग के लिए, कभी छोटे क़द के लिए, कभी पड़ौसी की बडी कार, कभी पड़ोसन के गले का हार, कभी अपने कम मार्क्स, कभी अंग्रेज़ी, कभी पर्सनालिटी, कभी नौकरी की मार तो कभी धंदे में मार कभी अपने सिंगिंग कि लो-स्केल को लेकर हमें इससे बाहर आना ही पड़ता है

ये जीवन है इसे ऐसे ही जीना पड़ता है

चील की ऊँची उड़ान देखकर चिड़िया कभी डिप्रेशन में नहीं आती

वो अपने आस्तित्व में मस्त रहती है

मगर इंसान, इंसान की ऊँची उड़ान देखकर बहुत जल्दी चिंता में आ जाते हैं

तुलना से बचें और खुश रहें

परिस्थितियां कभी समस्या नहीं बनती,समस्या इस लिए बनती है, क्योंकि हमें उन परिस्थितियों से लड़ना नहीं आता।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s