We are all stories in the end, just make it a good one.

All talk about revolutionizing the world is just useless talk. No revolution has ever succeeded in bringing about any significant, positive change. Revolutionaries who claim that they are against dictatorship become dictators themselves.

Resistance is an exercise doomed to encounter failure. In our lives, we cannot change the attitude of our neighbour or anybody. At best, we can transform ourselves, that’s all. If we do that, it is enough.

दुनिया में क्रांति लाने की सारी बातें बेकार की बातें हैं।  कोई भी क्रांति कभी भी कोई महत्वपूर्ण, सकारात्मक परिवर्तन लाने में सफल नहीं हुई है।  जो क्रांतिकारी यह दावा करते हैं कि वे तानाशाही के खिलाफ हैं, वे खुद तानाशाह बन जाते हैं।

प्रतिरोध एक ऐसा अभ्यास है जो असफलता का सामना करने के लिए अभिशप्त है।  अपने जीवन में हम अपने पड़ोसी या किसी के भी नजरिये को नहीं बदल सकते।  ज्यादा से ज्यादा, हम खुद को बदल सकते हैं, बस।  अगर हम ऐसा करते हैं, तो यह काफी है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s