Honesty is the best proud way!

My seven year old son
Got admission in second class….
always top in the class he came.

When I got salary in the last days
I will get him a new school dress & Took him to the market to get shoes!

By saying this by taking the shoes off the son Refuse old shoes as he said just a little repair needed for it now this year it Can work!
Instead of his shoes
He said to get for his grandfather
new glasses for his lost eyes.
I thought it would be son love for his grandfather, so instead of his shoe theirs glasses are more important for him.
Are you able to understand, quite amazing right!

Next we Arrived at the dress shop, The shopkeeper gave the size of the son, he took off the white shirt, the shirt at once was fit Still the son wore a slightly longer shirt, when he Asked to show!!!!
I told my son:
son this shirt is perfect for you
Then why longer?
The son said: Father, give me this shirt, anyhow I have to be put inside the nicker itself So even if it’s a bit long It won’t matter but this shirt is will be useful for me in next year too.
Will come in use in class too like the last shirt still looks same as new.
After hearing it I kept quiet !!

While coming home I asked my son:
who teaches you all these things
Son ?

  The son said:
  Dad i used to see often
  that ever the mother would leave her sari
  So do you ever take your shoes off always except for my books
  and spend money on clothes
  Let’s give!

  Everyone in the street says
  are you very honest
  are men & those with us
  Everyone says about Raju’s father as
  thief, dog, dishonest, briber
  while you’re both work in the same office.!

when everyone praises you
  If you do then I you are very good Seems the same to all as
Even mom & grandpa too
  Praise you.

father i dont want for me
  Sometimes to get new clothes in life, or get new shoes or such
but I want to be like you honest person, i don’t want to be called by someone as thief, dishonest, briber,
  i want to be your strength
  father,
  Not your weakness!

  I was helpless after listening to my son! Today, for the first time,
  I was rewarded for my honesty!!
Today after a long time in my eyes of joy, pride & honor
  There were tears.
  Friends, money earned dishonestly gives momentary happiness, but the honor of the family is also lost, and those who earn money dishonestly by thinking of their loved ones, they do not even participate in the punishment of that sin, that person has to suffer.

Money may be less in life but never sell your conscience. Your children are proud of the money you earn honestly and they can fight with anyone for you. Whereas money earned by corrupt means has a bad effect on children and family.  And they also have a sense of shame for your deeds.

मेरा सात वर्षीय बेटा
दूसरी कक्षा में प्रवेश पा गया ….
क्लास में हमेशा से अव्वल
आता रहा है !

पिछले दिनों तनख्वाह मिली तो
मैं उसे नयी स्कूल ड्रेस और
जूते दिलवाने के लिए बाज़ार ले गया !

बेटे ने जूते लेने से ये कह कर
मना कर दिया की पुराने जूतों
को बस थोड़ी-सी मरम्मत की
जरुरत है वो अभी इस साल
काम दे सकते हैं!
अपने जूतों की बजाये उसने
मुझे अपने दादा की कमजोर हो
चुकी नज़र के लिए नया चश्मा
बनवाने को कहा !
मैंने सोचा बेटा अपने दादा से
शायद बहुत प्यार करता है
इसलिए अपने जूतों की बजाय
उनके चश्मे को ज्यादा जरूरी
समझ रहा है !

उसे लेकर
ड्रेस की दुकान पर पहुंचा…..
दुकानदार ने बेटे के साइज़
की सफ़ेद शर्ट निकाली …
डाल कर देखने पर शर्ट एक दम
फिट थी…..
फिर भी बेटे ने थोड़ी लम्बी शर्ट
दिखाने को कहा !!!!
मैंने बेटे से कहा :
बेटा ये शर्ट तुम्हें बिल्कुल सही है
तो फिर और लम्बी क्यों ?
बेटे ने कहा :पिता जी मुझे शर्ट
निक्कर के अंदर ही डालनी होती है
इसलिए थोड़ी लम्बी भी होगी तो
कोई फर्क नहीं पड़ेगा…….
लेकिन यही शर्ट मुझे अगली
क्लास में भी काम आ जाएगी ……
पिछली वाली शर्ट भी अभी
नयी जैसी ही पड़ी है लेकिन
छोटी होने की वजह से मैं उसे
पहन नहीं पा रहा !
मैं खामोश रहा !!

घर आते वक़्त मैंने बेटे से पूछा :
तुम्हे ये सब बातें कौन सिखाता है
बेटा ?

बेटे ने कहा:
पिता जी मैं अक्सर देखता था
कि कभी माँ अपनी साडी छोड़कर
तो कभी आप अपने जूतों को
छोडकर हमेशा मेरी किताबों
और कपड़ो पर पैसे खर्च कर
दिया करते हैं !

गली- मोहल्ले में सब लोग कहते
हैं कि आप बहुत ईमानदार
आदमी हैं और हमारे साथ वाले
राजू के पापा को सब लोग
चोर, कुत्ता, बे-ईमान, रिश्वतखोर
और जाने क्या क्या कहते हैं,
जबकि आप दोनों एक ही
ऑफिस में काम करते हैं…..

जब सब लोग आपकी तारीफ
करते हैं तो मुझे बड़ा अच्छा
लगता है…..
मम्मी और दादा जी भी आपकी
तारीफ करते हैं !

पिता जी मैं चाहता हूँ कि मुझे
कभी जीवन में नए कपडे,
नए जूते मिले या न मिले
लेकिन कोई आपको
चोर, बे-ईमान, रिश्वतखोर या
कुत्ता न कहे !!!!!
मैं आपकी ताक़त बनना चाहता हूँ
पिता जी,
आपकी कमजोरी नहीं !

बेटे की बात सुनकर मैं निरुतर था!
आज  पहली बार मुझे,
मेरी ईमानदारी का इनाम मिला था !!
आज बहुत दिनों बाद आँखों में
ख़ुशी, गर्व और सम्मान के
आंसू थे।
मित्रों,बेईमानी से कमाए धन से क्षणिक खुशी तो मिलती है पर परिवार की इज्जत भी जाती है और जिन अपनों का सोचकर बेईमानी से धन कमाते है उस पाप के दंड में वे सहभागी भी नहीं होते वो उस व्यक्ति को ही भुगतना होता है।

जीवन में पैसा भले ही कम हो पर जमीर कभी मत बेचे।आपके बच्चों को आपके द्वारा ईमानदारी से कमाए धन पर गर्व होता है और आपके लिए वो किसी से भी भिड़ सकते है।जबकि भ्रष्ट तरीके से कमाए धन से बच्चो और परिवार पर बुरा असर भी पड़ता है और उन्हें आप के कर्म के लिए लज्जा का भाव भी होता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s