Satisfaction gives you what you Desire, After that You don’t need to require. Michael Jackson Story

Michael Jackson wanted to live for 150 years.
He appointed 12 doctors at home who would daily examine him from hair to toenails.
His food was always tested in laboratory before serving.
Another 15 people were appointed to look after his daily exercise and workout.
His bed had the technology to regulate the oxygen level.
Organ donors were kept ready so that whenever needed they could immediately donate their organ . The maintenance of these donors were taken care of by him.
He was proceeding with a dream of living for 150 years.
Alas ! He failed.
On 25th June 2009, at the age of 50, his heart stopped functioning. The constant effort of those 12 doctors didn’t work.
Even, the combined efforts of doctors from Los Angeles and California too couldn’t save him.
The person who would never put a step forward without the doctors suggestion for his last 25 years, couldn’t fufill his dream of living 150 years.
Jackson’s final journey was watched live by 2.5 million people which is the longest live telecast till date.
On the day he died,i.e. 25th June ’09 at 3.15 pm, Wikipedia, Twitter,AOL’s instant messenger stopped working. Millions of people together searched Michael Jackson on Google.
Jackson tried to challenge death but death challenged him back.
The materialistic life in this materialistic world embraces materialistic death instead of a normal one. This is the rule of life.
Now let’s think.
Are we earning for the builders,engineers,designers or decorators?
Whom do we want to impress by showing expensive house,car and extravagant wedding ?
Do you remember the food items in the wedding reception which you had attended couple of days ago?
Why are we working like an animal in life ?
For the comfort of how many generations do we want to save?
Most of us have one or two children. Have you ever thought how much do we need and how much do we want?
Do we consider that our children won’t be able to earn much and so its necessary to save some extra for them?
Do you spend some time with yourself, family or friends in the week?
Do you spend 5% of your earning on yourself?
Why don’t we find happiness in life along with what we earn ?
If you think deeply, your heart might fail to work. You will suffer from slip disc, high cholesterol, insomnia etc. etc.
Conclusion : Spend some time for yourself. We don’t own any property,its only in some documents that our name is written temporarily.
When we say “ this is my property ”, God passes a crooked smile.
Don’t create an impression on a person seeing his car or dress. Our great mathematicians and scientists used bicycle or scooter for commuting.
Its not a sin to be rich, but to be rich only with money is a sin.
Control life or else life will control you.
The things which really matter at the end of life is contentment, satisfaction and peace.
Sadly, these cannot be bought.

माइकल जैक्सन 150 साल तक जीना चाहते थे।
उन्होंने घर पर 12 डॉक्टर नियुक्त किए जो रोजाना बालों से लेकर पैर के नाखूनों तक उनकी जांच करते थे।
परोसने से पहले उनके भोजन की हमेशा प्रयोगशाला में जांच की जाती थी।
उनके दैनिक व्यायाम और कसरत की देखभाल के लिए अन्य 15 लोगों को नियुक्त किया गया था।
उनके बिस्तर में ऑक्सीजन के स्तर को नियंत्रित करने की तकनीक थी।
अंग दाताओं को तैयार रखा गया ताकि जब भी जरूरत हो वे तुरंत अपना अंग दान कर सकें।  इन दानदाताओं का भरण-पोषण उन्हीं के द्वारा किया जाता था।
वह 150 साल जीने का सपना लेकर आगे बढ़ रहे थे।
काश!  वह असफल रहा।
25 जून 2009 को 50 साल की उम्र में उनके दिल ने काम करना बंद कर दिया।  उन 12 डॉक्टरों की लगातार कोशिश काम नहीं आई।
यहां तक ​​कि लॉस एंजिल्स और कैलिफोर्निया के डॉक्टरों के संयुक्त प्रयास भी उन्हें नहीं बचा सके।
जो व्यक्ति अपने पिछले 25 वर्षों के लिए डॉक्टरों के सुझाव के बिना कभी एक कदम आगे नहीं बढ़ाता, वह 150 साल जीने के अपने सपने को पूरा नहीं कर सका।
जैक्सन की अंतिम यात्रा को 25 लाख लोगों ने लाइव देखा जो अब तक का सबसे लंबा लाइव टेलीकास्ट है।
जिस दिन उनकी मृत्यु हुई, अर्थात्।  25 जून ’09 को दोपहर 3.15 बजे, विकिपीडिया, ट्विटर, एओएल के तत्काल संदेशवाहक ने काम करना बंद कर दिया।  माइकल जैक्सन को लाखों लोगों ने मिलकर गूगल पर सर्च किया।
जैक्सन ने मौत को चुनौती देने की कोशिश की लेकिन मौत ने उसे वापस चुनौती दी।
इस भौतिकवादी दुनिया में भौतिकवादी जीवन सामान्य के बजाय भौतिकवादी मौत को गले लगाता है।  यही जीवन का नियम है।
अब चलो सोचते हैं।
क्या हम बिल्डरों, इंजीनियरों, डिजाइनरों या सज्जाकारों के लिए कमाई कर रहे हैं?
हम महंगे घर, कार और फालतू की शादी दिखाकर किसे प्रभावित करना चाहते हैं?
क्या आपको शादी के रिसेप्शन में खाने का सामान याद है, जिसमें आप कुछ दिन पहले शामिल हुए थे?
हम जीवन में एक जानवर की तरह क्यों काम कर रहे हैं ?
हम कितनी पीढ़ियों के आराम के लिए बचाना चाहते हैं?
हममें से अधिकांश के एक या दो बच्चे हैं।  क्या आपने कभी सोचा है कि हमें कितना चाहिए और कितना चाहिए?
क्या हम मानते हैं कि हमारे बच्चे ज्यादा नहीं कमा पाएंगे और इसलिए उनके लिए कुछ अतिरिक्त बचत करना जरूरी है?
क्या आप सप्ताह में कुछ समय अपने, परिवार या दोस्तों के साथ बिताते हैं?
क्या आप अपनी कमाई का 5% खुद पर खर्च करते हैं?
हम जो कमाते हैं उसके साथ हमें जीवन में खुशी क्यों नहीं मिलती?
यदि आप गहराई से सोचते हैं, तो आपका दिल काम करने में असफल हो सकता है।  आप स्लिप डिस्क, उच्च कोलेस्ट्रॉल, अनिद्रा आदि से पीड़ित रहेंगे।
निष्कर्ष: कुछ समय अपने लिए बिताएं।  हमारे पास कोई संपत्ति नहीं है, केवल कुछ दस्तावेजों में हमारा नाम अस्थायी रूप से लिखा गया है।
जब हम कहते हैं “यह मेरी संपत्ति है”, भगवान एक कुटिल मुस्कान से गुजरता है।
अपनी कार या ड्रेस देखकर किसी व्यक्ति पर अपनी छाप न छोड़ें।  हमारे महान गणितज्ञ और वैज्ञानिक आने-जाने के लिए साइकिल या स्कूटर का इस्तेमाल करते थे।
धनवान होना पाप नहीं है, केवल धन से धनी होना पाप है।
जिंदगी को कंट्रोल करो वरना जिंदगी आपको कंट्रोल कर लेगी।
जीवन के अंत में जो चीजें वास्तव में मायने रखती हैं, वे हैं संतोष, संतुष्टि और शांति।
अफसोस की बात है कि इन्हें खरीदा नहीं जा सकता।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s