The only way to be happy is not to look at lack.

The only way to be happy is not to look at lack. Today our situation is that we do not enjoy what we have received, but by contemplating what is not available, we mourn life.

The root cause of grief is not our needs, but our desires. Our needs can be fulfilled at any time, but not our desires. Wishes can never be fulfilled and neither can anyone’s till date. One wish is fulfilled only then the other stands.

Our hope is the root of sorrow. No one in the world can make us unhappy, our expectations only make us cry. It is also true that if there are no desires, how will there be actions? Disinterestedness comes in a life without desire. But those who are very desirous and dissatisfied are always unhappy.

Words to relationships,
Do not make love
If you have any silence ..
Make your voice heard..!!



सुखी एक ही रास्ता है वह है अभाव की तरफ दृष्टि ना डालना। आज हमारी स्थिति यह है जो हमे प्राप्त है उसका आनंद तो लेते नहीं, वरन जो प्राप्त नहीं है उसका चिन्तन करके जीवन को शोकमय कर लेते हैं।

दुःख का मूल कारण हमारी आवश्कताएं नहीं हमारी इच्छाएं हैं। हमारी आवश्यकताएं तो कभी पूर्ण भी हो सकती हैं मगर इच्छाएं नहीं। इच्छाएं कभी पूरी नहीं हो सकतीं और ना ही किसी की हुईं आज तक। एक इच्छा पूरी होती है तभी दूसरी खड़ी हो जाती है।

दुःख का मूल हमारी आशा ही हैं। हमे संसार में कोई दुखी नहीं कर सकता, हमारी अपेक्षाएं ही हमे रुलाती हैं। यह भी सत्य है कि बिना इच्छायें ना होंगी तो कर्म कैसे होंगे ? इच्छा रहित जीवन में नैराश्य आ जाता है। लेकिन अति इच्छा रखने वाले और असंतोषी हमेशा दुखी ही रहते हैं।

रिश्तों को शब्दों का ,
मोहताज ना बनाइये ..
अगर अपना कोई खामोश है तो..
ख़ुद ही आवाज़ लगाइये..!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s